डिजाइन थिंकिंग - प्रोटोटाइप स्टेज


Advertisements

यह चरण विचारों के निर्माण और अंतिम समाधान पर पहुंचने के लिए उनकी व्यवहार्यता की जांच करने के साथ सरोकार रखता है। यह वह चरण होता है, जिसमें तीन चीजों को मुख्य रूप से ध्यान रखा जाता है।

  • अनुभव का निर्माण
  • फीडबैक प्राप्त करना
  • पुनरावृत्ति

प्रोटोटाइप वह चरण है जिसमें अंतिम उपयोगकर्ता सामने आता है। अंतिम उपयोगकर्ता डिजाइन थिंकिंग के इस घटक में सक्रिय रूप से शामिल होते हैं। सभी फीडबैक ग्राहक से लिए जाते हैं और प्राप्त की गई आलोचनाओं, सुझावों और प्रशंसाओं के आधार पर, डिजाइन थिंकर्स, डिजाइन थिंकिंग की प्रक्रिया के पहले तीन चरणों, सहानुभूति, परिभाषित, और विचार, को दोहराने के बाद बेहतर समाधान तैयार करते हैं।

प्रोटोटाइपिंग को स्पष्ट उत्पाद बनाने के लिए थिंकर्स की आवश्यकता है जिसमें सटीक समाधान के छोटे-छोटे मॉडल हो सकते हैं।

प्रोटोटाइपिंग के लिए प्राथमिक दिशानिर्देश

  • पहला कदम उठाएं और प्रोटोटाइप का निर्माण शुरू करें। देर मत करें।
  • एक प्रोटोटाइप के निर्माण पर बहुत अधिक समय बर्बाद न करें।
  • प्रोटोटाइप को अंतिम उपयोगकर्ता के ध्यान में रख कर बनाना चाहिए।
  • प्रोटोटाइप कचरे का एकमात्र टुकड़ा नहीं होना चाहिए; इसे उपयोगकर्ताओं के लिए एक अनुभव बनाना होगा।
  • ऐसे खुले प्रश्नों के बारे में सोचें जिनके बारे में उपयोगकर्ता आपसे पूछ सकता है, जब वह प्रोटोटाइप का अनुभव करता है।

प्रोटोटाइप पूरी तरह से एंड यूज़र के लिए है। अगर उपयोगकर्ता उसे सहज और संतुष्ट नहीं करता है तो प्रोटोटाइप का कोई मूल्य नहीं है। प्रोटोटाइप विकसित होने के बाद अगले चरण निम्नानुसार हैं।

  • प्रोटोटाइप के जरिए एंड यूज़र लें और उसे पूरी तरह से इसका अनुभव करने दें।

  • अनुभव के दौरान उपयोगकर्ता अपने परस्पर अनुभव के बारे में बताने दें। यह आपको एक डिजाइन थिंकर के रूप में सूक्ष्म विवरण के अनुभव को ग्रहण करने में मदद करेगा।

  • अनुभव के दौरान सक्रिय रूप से निरीक्षण करने और उत्साह से उपयोगकर्ता के साथ जुड़ने का प्रयास करें।

  • एक बार अनुभव खत्म हो, जाने पर अनुभव करने वाले उपयोगकर्ता से कुछ सवालों के सेट के साथ आगे की कार्यवाही करें। यह बेहतर होगा यदि प्रश्न तात्कालिक न हो और उन्हें पहले से ही तैयार किया गया हो।

दिशा-निर्देश

आईए डीटी के उदाहरण पर एक नजर डालें

नॉलेज ट्रांसफर प्रोग्राम को समाप्त नहीं किया जा सकता क्योंकि यह मानना सही नहीं है कि सभी नये कर्मचारियों के पास पहले से उद्योग में तकनीक का पर्याप्त ज्ञान होगा। प्रत्येक नए कर्मचारी को नॉलेज ट्रांसफर प्रोग्राम प्रदान करना मानव संसाधन के लिए अच्छा माना जाता है। यहां तक कि अगर हम इस पर सवाल करते हैं तो हम यह पता लगा सकते हैं कि नौकरी के लिए आवेदकों के पास पहले से ही सारा ज्ञान है और वह हमारा नुकसान कर सकता है।

इसके अलावा कर्मचारियों को उनके अन्य साथी कर्मचारियों को प्रोत्साहित करने के लिए कहना अनिश्चित हो सकता है क्योंकि इस मुद्दे के प्रबंधन के लिए कर्मचारियों में बहुत अधिक विश्वास होगा। प्रेरणा के नाम पर कर्मचारी क्या कह सकते हैं इस पर कोई विनियमन नहीं होगा और इसलिए अंत में कर्मचारी भी कंपनी को छोड़ने के लिए अन्य लोगों को उकसा सकते हैं।

वर्तमान में नॉलेज ट्रांसफर प्रोग्राम के लिए सबसे अच्छा विकल्प एक क्लासरूम का होना है जहां कई लोग एक बार में अध्ययन कर सकते हैं। इससे लागत कम हो जाएगी और नॉलेज ट्रांसफर प्रोग्राम को प्रभावशाली बनाने में भी मदद मिलेगी। इसके अलावा टीम निर्माण गतिविधियां कंपनी के बजट पर भार डाल सकती है, अगर यह कंपनी के परिसर के बाहर किया जाए।

हालांकि कंपनी के अंदर काम करने के समय में छोटी गतिविधियां कर्मचारियों के बीच टीम-बिल्डिंग करने में मदद कर सकती हैं। यह संबंध उन्हें एक टीम के रूप में एक साथ रहने और कंपनी में लंबे समय तक काम करने में मदद कर सकता है। प्रेरक पोस्टर और समय-समय पर सराहना भी ऐसा करने में मदद कर सकते हैं।

अंतिम प्रोटोटाइप

तो हमारा प्रोटोटाइप इस तरह दिखता है। हम कंपनी परिसर के एक छोटे से हिस्से का पुनर्निर्माण कर सकते हैं, उदाहरण के तौर पर, कंपनी भूतल में एक छोटा सा हिस्सा जिसकी दीवारों पर प्रेरक पोस्टर चिपके होंगे। टीम निर्माण गतिविधियों को एक सप्ताह के लिए आयोजित किया जाएगा और कर्मचारी कैसा महसूस करते हैं, इसपर उनकी प्रतिक्रिया ली जाएगी। अगर वे डीटी के अंतर्गत ऐसी गतिविधि से खुश हैं तो हमें उनकी आवश्यकताओं को जानना जरूरी होगा।

इस बीच, एक अध्यापक, नए ज्वाइनीज़ के लिए कक्षा सत्र का आयोजन एक सप्ताह के लिए कर सकता है और सत्र के दौरान उनके संतुष्टि स्तर पर प्रतिक्रिया प्राप्त की जा सकती है। एक परीक्षा में उनके सीखने के स्तर की भी जांच की जाएगी।

इस तरह कई प्रोटोटाइप तैयार किए जा सकते हैं और परीक्षण किए जा सकते हैं।

Advertisements